प्राचीन भारत का इतिहास | Most Important For RAILWAY and SSC EXAMS


💠प्राचीन भारत का इतिहास💠

➨दस राजाओं का युद्ध परुषणी नदी के किनारे हुआ। इसमें भरत जन के राजा सुदास ने दश राजाओं के संघ को हराया।

➨राष्ट्रकूट वंश की स्थापना दंतिदुर्ग ने की। इसकी स्थापना 8वीं सदी में की गई।

➨सेन वंश बंगाल का एक राजवंश था। इसकी स्थापना हेमंतसेन ने की।

➨ऐलोरा के शिव मंदिर प्रसिद्ध राष्ट्रकूट राजा कृष्ण प्रथम ने बनवाये।

➨वल्लभी काल गुप्त काल के समान था।

➨मेगस्थनीज सेल्यूकस द्वारा नियुक्त चन्द्रगुप्त मौर्य के दरबार में राजदूत था| उसने इंडिका नामक पुस्तक लिखी|

➨सोमपुरी विश्वविद्यालय की स्थापना बंगाल के पालवंशी राजा धर्मपाल ने की|

➨गौतम बुद्ध की मां महामाया क्षत्रिय वंशी कोलिय वंश की रानी थी। उनका विवाह क्षत्रिय शाक्य वंशी राजा शुध्दोदन से हुआ।

➨विक्रमशिला विश्विद्यालय बंगाल में था जो प्राचीन भारत का एक प्राचीन प्रसिद्ध विश्विद्यालय था। इसका निर्माण पाल राजा धर्मपाल ने कराया।

➨नालंदा विश्वविद्यालय का विकास गुप्त राजा कुमारगुप्त के समय हुआ| कुमार गुप्त गुप्त वंश का राजा और चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य का पुत्र था|

➨विनय पिटक नैतिक आचार संहिता के बारे में है। इसमें मुख्यतः कानून था।इसमें संघ, भिक्षुओं और भिक्षुणियों के लिए नियम हैं।

➨कुषाणों ने सोने, चांदी और तांबे के सिक्के चलवाए| कुषाणों को तुषारी लोग भी कहा जाता था|

➨अंतिम मौर्य सम्राट बृहद्रथ था जिसे उसके सेनापति सम्राट पुष्यमित्र शुंग ने मारकर शुंग राज्य की स्थापना की।

➨मोगलीपुत्त तिस्स बौद्ध धर्म के भिक्षु और विद्वान थे। वह अशोक के आध्यात्मिक गुरु थे और अशोक के पुत्र महिंद्र के आध्यात्मिक गुरु भी थे।

➨वैदिक काल में सौत्रामणि यज्ञ में सूरा का प्रयोग किया जाता है|

© Copyright 2018-2019 at Sarkari Resultes